Sunday, March 9, 2014

एकला चलो रे..





मनुष्य अकेला है, वह अकेला ही इस पृथ्वी पर आता है और उसे अकेला ही जाना होता है.. अकेला होना ही मनुष्य का स्वभाव है.. इस सत्य को भली-भांति जानते हुए भी मन के एक कोनें में साथ की आकांक्षा बनी ही रहती है..




2 comments:

आपके सुझाव हमें प्रेरित करते हैं, आप हमें drishti@suhano.in पर मेल भी कर सकते है..

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...