Tuesday, October 30, 2012

नानी का गांव

   रांची से 55-60 km दूर एक छोटा सा गांव है जिसका नाम है- सुन्दारी.. ये मेरे नानी का गांव है.. अक्सर छुट्टीओं में मैं यहां पहुंच जाता हूं.. यहां का शांत व प्राकृतिक वातावरण मुझे बेहद पसंद आता है..
   सदा की भांति इस वर्ष भी दुर्गापूजा की छुट्टीओं में मुझे वहां जाने का मौका मिला.. जब भी मैं वहां जाता हूं, अपनें साथ अपना कैमरा ले जाना कभी-भी नहीं भूलता.. वहां की दुनियां मुझे बड़ी 'फोटोजेनिक' लगती है.. वहां अक्सर मैं और मेरे मामाजी शाम को घूमनें निकल जाते हैं और मुझे रास्ते में जो कुछ भी मिलता है मैं अपनें कैमरे में वो सब कैद करता जाता हूं..
   इस बार भी हम शाम होते ही घूमनें निकल गये, गांव की मुख्य सड़क से इतर हम हमेशा ही खेतों की ओर घूमनें निकल जाते हैं.. ये रास्ते कच्चे और बालू भरे होते हैं.. इन्हीं रास्तो पे हम घंटों घूमते हुए अपना बचपन और यहां गुजारे पुरानें दिनों को याद किया करते हैं..


इन्हीं रास्तों में इस बार मामाजी नें एक जगह रेत पर गांधीजी बनाकर दिखाया..



दूसरे दिन हमारा 'सोनपूरगढ़' जाना हुआ.. मेरे नानी के गांव से ये 5km की दूरी पे है.. यहां का मंदिर बहुत ही प्रसिद्ध है, इस मंदिर में कई देवी-देवताओं की प्राचीन मूर्तियां हैं जो कि खुदाई से निकली हैं, और यहां का ये पेड़ भी खास है क्यूंकि इस पेड़ पर ये आकृति जो कि बिलकुल गणेशजी की प्रतिमा की तरह लगता है, प्राकृतिक रुप से बना है..


जब हम मंदिर से निकले, बाहर थोड़ी दूरी पर कुछ बच्चे खेल रहे थे.. मेरे हाथ में कैमरा देखते ही वे तरह तरह के करतब दिखानें लगे, मैं भी उनकी हरकतें अपनें कैमरे में कैद करनें लगा..


 




सोनपूरगढ़ में नई-नई बिजली आई है तो ये छोटा सा ट्रांसफरमर यहां लगाया गया है जोकि इतना छोटा है कि मुझे तो ये एक अजूबा ही लगा..

..

18 comments:

  1. खुबसूरत चित्र संयोजन....कहानी को पूर्ण करते, अतीत के गलियारों में ले जाते हैं....साधुवाद

    ReplyDelete
  2. वाह...नानी के गाँव की सैर करा दी.. बहुत बहुत शुक्रिया...!!

    ReplyDelete
  3. आपके ब्लॉग पर लगा हमारीवाणी क्लिक कोड ठीक नहीं है, इसके कारण हमारीवाणी लोगो पर क्लिक करने से आपकी पोस्ट हमारीवाणी पर प्रकाशित नहीं हो पाएगी. कृपया हमारीवाणी में लोगिन करके सही कोड प्राप्त करें और इस कोड की जगह लगा लें.

    यहाँ यह ध्यान रखा जाना आवश्यक है कि हमारीवाणी पर हर एक ब्लॉग के लिए अलग क्लिक कोड होता है.

    क्लिक कोड पर अधिक जानकारी के लिए निम्नलिखित लिंक पर क्लिक करें.

    हमारीवाणी पर ब्लॉग प्रकाशित करने के लिए क्लिक कोड लगाएँ

    किसी भी तरह की जानकारी / शिकायत / सुझाव / प्रश्न के लिए संपर्क करें

    टीम हमारीवाणी

    ReplyDelete
    Replies
    1. क्लिक कोड ठीक कर दिया गया है.. जानकारी के लिए शुक्रिया..

      Delete
  4. अच्छा विषय चुना तुमने पर लेख थोड़ा संक्षिप्त रहा । और जानने की उत्सुकता थी तुम्हारे गाँव के बारे में। चित्र हमेशा की तरह बेहतरीन हैं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी मनीष सर.. इस बार थोड़ा लिखनें का प्रयास किया था.. अब आगे चित्रों के साथ विस्तार से लिखनें का प्रयास करूंगा.. बहुत बहुत शुक्रिया..

      Delete
  5. बेहतरीन रचना एवं अभिव्यक्ति के लिए आभार

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर फोटो और गाँव के रंग ...
    दिवाली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छी पोस्ट.. गांव और बच्चों की तस्वीरें बहुत अच्छी लगी...

    ReplyDelete
  8. I am also from Ranchi lalpur chowk
    Nice blog Check mine too
    Know The Answer

    ReplyDelete
    Replies
    1. Your's is also great.. Thankyou for the link..

      Delete
  9. Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद पवन जी..

      Delete

आपके सुझाव हमें प्रेरित करते हैं, आप हमें drishti@suhano.in पर मेल भी कर सकते है..

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...